बैसाख शुक्ल पंचमी को इनका हुआ अवतार

 


आज के ही दिन हुआ था जगदगुरु शंकराचार्य का अवतार


(सुनील पांडे)


वैशाख शुक्ल पंचमी७८८ ई  को आदि जगद्गुरु शंकराचार्य का जन्महुआ आदि शंकर  भारत के एक महान दार्शनिक एवं धर्मप्रवर्तक थे। उन्होने अद्वैत वेदान्त को ठोस आधार प्रदान किया। उन्होने सनातन धर्म की विविध विचारधाराओं का एकीकरण किया। उपनिषदों और वेदांतसूत्रों पर अनेक टीकाएँ लिखी जो बहुत प्रसिद्ध हैं। इन्होंने भारतवर्ष में चार मठों की स्थापना की थी  जिन पर आसीन संन्यासी 'शंकराचार्य' कहे जाते हैं। वे चारों स्थान ये हैं- (१) ज्योतिष्पीठ बदरिकाश्रम, (२) श्रृंगेरी पीठ, (३) द्वारिका शारदा पीठ और (४) पुरी गोवर्धन पीठ। इन्होंने अनेक विधर्मियों को भी अपने धर्म में दीक्षित किया था। ये शंकर के अवतार माने जाते हैं।


Popular posts
श्यामलाल प्रधान का कार्यकर्ताओं ने किया स्वागत
अम्बरीष कुमार विचार मंच ने भारतीय किसान यूनियन के आह्वान पर भारत बंद का देवपुरा चोराहा पर प्रर्दशन कर समर्थन किया ।
Image
कांवड़ मेले के चलते हेमंती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विश्वविद्यालय की हरिद्वार जिले की परीक्षाएं स्थगित
Image
उत्तराखंड में कोरोना से जंग जीतने वाले 3लाख 20 हजार से अधिक हुए, रिकवरी दर 95% से अधिक हुई, हरिद्वार में एक्टिव केस 500 के करीब बचे
Image
उत्तराखंड के विद्यालयों में अब कक्षा 6 से 12 तक की कक्षाओं का संचालन 4 घंटे के स्थान पर पूर्व की भांति निर्धारित समय के अनुसार होगा