पूरे उत्तराखंड में कन्टेनमेन्ट जोन हैं 82 तो हरिद्वार में है 58 कयों

क्या कन्टेनमेन्ट जोन बनाने के लिए सभी जनपदो में है समान नियम 


जब पूरे देश में लॉक डाउन लागू हुआ तब पूरे देश को तीन प्रकार के जोन में बांटा गया रेड, ओरेंज और ग्रीन जाहिर जहाँ कोरोना संक्रमित ज्यादा मिले वहां रेड जोन कममिलने पर ओरेंज और एक भीकेस नहीं होने पर ग्रीन जोन बने। बाद में बफर जोन और कन्टेनमेन्ट जोन और प्रचलन में आये बफर जोन तो रेड जोन के आसपास बनते हैं लेकिन कन्टेनमेन्ट जोन कुछ छोटे छोटे इलाके हैं जहाँ कोरोना पोजिटिव पाये गए या पाये जाने की संभावना है,     पूरे उत्तराखंड प्रदेश में कोरोना संक्रमितो की कुल संख्या 3417 है और एक्टिव केस 628 हैं और 82 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं उनमें से 58 हरिद्वार जनपद में है अब देखिये कैसे हैं कन्टेनमेन्ट जोन 
जनपद एक्टिव केस कन्टेनमेन्ट जोन
देहरादून    135           04
नैनीताल     184         02
ऊ सिं न     181          13
 हरिद्वार        38         58
उत्तरकाशी   27           04
टिहरी           08          01
शेष कहीं कोई कन्टेनमेन्ट जोन नहीं है, अगर कुल संक्रमितो की बात करें तो देहरादून में 836, नैनीताल में 564, टिहरी में 429, ऊधम सिंह नगर 416 तो हरिद्वार में 347 केस पाये गये हैं , अर्थात
कुल संक्रमितो की संख्या के हिसाब से हरिद्वार पांचवे स्थान पर है और एक्टिव केसों के अनुसार चौथे नंबर पर है लेकिन कन्टेनमेन्ट जोन न केवल सर्वाधिक हैं बल्कि सर्वाधिक कोरोना मरीजो वाले जनपद देहरादून से करीब 18 गुना है कहीं न कहीं  कुछ गड़बड़ है इससे पहले हरिद्वार में जब मात्र 07 केस थे तब रेड जोन घोषित कर दिया था अन्य जनपदो में कहीं अधिक केस होने के बावजूद उन्हें ओरेंज जोन में रखा गया था मामला हाई कोर्ट तक पहुँच गया था फिर एकमुश्त सारे जनपदो को ओरेंज जोन में डाल दिया गया था ।


Popular posts
कांवड़ मेले के चलते हेमंती नंदन बहुगुणा केंद्रीय विश्वविद्यालय की हरिद्वार जिले की परीक्षाएं स्थगित
Image
अम्बरीष कुमार विचार मंच ने भारतीय किसान यूनियन के आह्वान पर भारत बंद का देवपुरा चोराहा पर प्रर्दशन कर समर्थन किया ।
Image
श्यामलाल प्रधान का कार्यकर्ताओं ने किया स्वागत
उत्तराखंड की नेता प्रतिपक्ष डाक्टर इंदिरा हृदयेश का निथन, राहुल गांधी और मुख्य मंत्री सहित अनेक ने किया शोक व्यक्त
Image
उत्तराखंड के विद्यालयों में अब कक्षा 6 से 12 तक की कक्षाओं का संचालन 4 घंटे के स्थान पर पूर्व की भांति निर्धारित समय के अनुसार होगा